लोकसभा में पास हुआ सामान्य गरीबों के आरक्षण का बिल, जानिए किस-किस ने क्या कहा

अन्य जिले होमपेज स्लाइडर

नई दिल्ली: सामान्य वर्ग के गरीबों को आर्थिक आधार पर आरक्षण की दिशा में केंद्र सरकार को पहली कामयाबी मिल गई है. देर रात तक चली लोकसभा की कार्यवाही में सामान्य वर्ग के गरीबों के आरक्षण के लिए लाया गया ऐतिहासिक संविधान संशोधन विधेयक लोकसभा से पास हो गया.

पक्ष और विरोध में कितने वोट
सामान्य वर्ग के आर्थिक रूप से गरीब लोगों को 10 फीसदी आरक्षण वाला विधेयक जब सदन के पटल पर रखा गया तो विपक्ष ने कोई विरोध तो नहीं किया लेकिन कई तरह के किंतु परंतु लगाए. वहीं जब इस बिल पर वोटिंग हुई तो 326 वोटो में से इसके पक्ष में 323 और विरोध में कुल 3 वोट पड़े.इसके साथ ही इसे लोकसभा से मंजूरी मिल गई. इस दौरान पीएम मोदी भी सदन में मौजूद रहे.

राज्यसभा में बिल की राह
लोकसभा से मंजूरी के बाद बिल अब राज्यसभा में रखा जाएगा. इसके चलते ही राज्यसभा की कार्यवाही एक दिन के लिए बढ़ाई गई. राज्यसभा में भी इस बिल के विरोध की संभावनाएं कम हैं क्योंकि 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले कोई दल सामान्य वर्ग की नाराजगी लेना नहीं चाहेगा.

किसने क्या क्या कहा?
लोकसभा से बिल पास होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी पार्टियों को धन्यवाद देते हुए कहा कि, उनकी सरकार सबका साथ-सबके विकास के लिए प्रतिबद्ध है.
थावरचंद्र गहलोत: केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री थावर चंद गहलोत ने कहा कि, पीएम मोदी ने सरकार बनने के बाद ही गरीबों को सरकार होने की बात कही थी. और अपने हर कदम से उन्होंने इसे साबित भी किया है.

अरुण जेटली: वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कहा कि, ये आरक्षण संविधान में संशोधन करके दिया जा रहा है इसलिए अदालती इम्तिहान में ये फेल नहीं होगा.

मायावती: बसपा सु्प्रीमो मायावती ने भी इस बिल का समर्थन किया लेकिन बीजेपी पर वार करते हुए कहा कि, ये तो हमारी पार्टी की मांग पर बीजेपी ने बहुत देर से फैसला लिया है.

रामगोपाल यादव: सपा महासचिव रामगोपाल यादव ने भी इस बिल का समर्थन किया, लेकिन रामगोपाल यादव ने ओबीसी के आरक्षण का कोटा 27 फीसदी से बढ़ाकर 54 फीसदी करने की मांग की है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *