योगी सरकार में सुरक्षित नही रहे पत्रकार, ख़बरों से ख़ौफ़ क्यूँ।

कानपुर : पत्रकारिता अगर लोकतंत्र का चौथा स्तंभ है तो पत्रकार इसका एक सजग प्रहरी है. देश को आज़ादी दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली पत्रकारिता आज़ादी के बाद भी अलग-अलग परिदृश्यों में अपनी सार्थक ज़िम्मेदारियों को निभा रही है. लेकिन मौजूदा दौर में अब पत्रकारिता दिनोंदिन मुश्किल बनती जा रही है. जैसे-जैसे समाज में […]

Read More