‘संसद’ से निकलेगा किसानों का ‘हल’!

सवाल ये कि जिन कृषि कानूनों को सरकार ऐतिहासिक बता रही है उनपर किसानों को इतना एतराज क्यों है? कृषि कानूनों को लेकर आजीविका का असमंजस बरकरार क्यों है? संवाद और सामंजस्य के रास्ते पर आंदोलन की दरकार क्यों है? कृषि कानूनों को लेकर किसानों और सरकार के बीच तकरार क्यों है ? तमाम बहस और बयानों से इतर ये वो सवाल हैं जिन्हें दिल्ली के दालानों में भरती नमी भी सोख नहीं पा रही है।

Read More

किसान आंदोलन: 8वें दिन भी खाली हाथ किसान, अब 5 दिसंबर को मीटिंग

लखनऊ/दिल्ली: 8 दिन में चार दौर की बातचीत हो चुकी है. लेकिन किसी भी दौर की दलीलें, इस दंगल को खत्म नहीं करा पा रही हैं. किसान अब 5 कानूनों में बदलाव की मांग कर रहे हैं. कृषि कानून पर किसान और सरकार के बीच हो रही रस्साकशी में अब राजनीति भी छोर देख रही […]

Read More