ज्ञानवापी पर शनिवार से होगा सर्वे, मथुरा और ताजमहल पर भी आया फैसला

अन्य जिले अपना लखनऊ बिना श्रेणी होमपेज स्लाइडर

दिल्ली/लखनऊ: धार्मिक और ऐतिहासिक धरोहरों पर सत्यता का संघर्ष सड़क से लेकर अदालत की दहलीज पर जा खड़ा हुआ है. वाराणसी की ज्ञानवापी मस्जिद, मथुरा की शाही ईदगाह, आगरा का ताजमहल और दिल्ली की कुतबमीनार ये वो चार तस्वीरें हैं जिनको लेकर देशभर में चौतरफा दंगल सजा है।

ज्ञानवापी पर कोर्ट का आदेश

दरअसल, वाराणसी की ज्ञानवापी मस्जिद परिसर के सर्वे और कमिश्मर बदलने की सुनवाई में कोर्ट ने बड़ा आदेश दिया है कि, कोर्ट ने साफ और सख्त लहजे में कहा है कि, कमिश्नर नहीं बदले जाएंगे, बल्कि कोर्ट कमिशनर अजय मिश्रा के साथ दो और सहायक कमिश्नर नियुक्त किए हैं. वहीं मस्जिद परिसर में सर्वे का काम अब शनिवार सुबह 8 बजे से शुरु होगा. जिलाधिकारी, डीजीपी इस पूरे प्रकरण की मॉनिटरिंग करेंगे. दरअसल, बीते दिनों सर्वे और वीडियोग्राफी के दौरान विरोध देखने को मिला था, मुस्लिम पक्ष ने कोर्ट कमिश्रर को बदलने की मांग उठाई थी…अब कोर्ट ने आदेश दिया है कि, सर्वे का विरोध करने वालों पर FIR होगी, शासन-प्रशासन की निगरानी में होने वाले सर्वे की रिपोर्ट 17 मई तक देनी होगी ।

सुप्रीम कोर्ट पहुंचा मामला

ज्ञानवापी मस्जिद का विवाद, अब वाराणसी से निकलकर दिल्ली की ओर दस्तक दे चुका है. दरअसल, अंजुमन इंतजामिया मस्जिद कमेटी ने वाराणसी कोर्ट के आदेश के खिलाफ देश की सबसे बड़ी अदालत में अर्जी दायर की है और ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे पर तत्काल रोक लगाने की मांग की हैं…हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने इस मांग को ये कहते हुए खारिज कर दिया है कि, इस मामले में हमें कोई जानकारी नहीं है। ऐसे में हम तत्काल कोई आदेश कैसे जारी कर सकते हैं। हम इस मामले की लिस्टिंग कर सकते हैं। इस मामले से जुड़ी फाइलों को हमने पढ़ा नहीं है। उनके अध्ययन के बाद ही कोई आदेश जारी किया जा सकता है।

मथुरा विवाद पर कोर्ट का निर्देश

इधर कृष्ण जन्मभूमि की 13.37 एकड़ जमीन के मालिकाना हक और शाही ईदगाह को हटाने की महाभारत पर, इलाहाबाद हाईकोर्ट ने मथुरा कोर्ट को निर्देश दिया है कि 4 महीने में सभी अर्जियों का निपटारा किया जाए ताकि, आगे की कार्रवाई एक साथ शुरु की जाए ।

ताजमहल मामले पर लगी फटकार

तासीर ताजमहल पर भी तीखी दिखी दिखाई दी. 22 कमरों को खोलने और ताजमहल बनाम तेजोमहल के भूगोल में कोर्ट ने फटकार लगाते हुए कहा कि,.. इतिहास क्या आपके मुताबिक पढ़ा जाएगा: हाईकोर्ट
‘PIL व्यवस्था का मजाक मत बनाओ’
यूनिवर्सिटी जाओ, PHD करो तब कोर्ट आना: कोर्ट
ताजमहल किसने बनवाया जाकर रिसर्च करो: कोर्ट
रिसर्च से कोई रोके तब हमारे पास आना: हाईकोर्ट
इन सब से परे बखेड़ा कुतुबमीनार को लेकर भी मचा है…कुतुंबमीनार बनाम विष्णु स्तंभ के विवाद में हंगामा हनुमान चालीसा पर भी चल रहा है. यानि, वाराणसी की ज्ञानवापी पर कोर्ट ने जहां बड़ा आदेश दिया है….वहीं मथुरा विवाद के समाधान की भी दिशा दिखाई हैं…कुल मिलाकर वाराणसी की रार और मथुरा पर तकरार और ताजमहल पर फटकार के बीच सवाल ये है कि, आखिर कहां तक जाएगी ये जंग. क्या अब 2024 के चुनाव से पहले तनाव की ये तस्वीरे सामने  आ रही है?

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *