जेल में आजम खान से मिले शिवपाल, बाहर निकलते ही मुलायम-अखिलेश के लिए कही ये बातें

अपना लखनऊ होमपेज स्लाइडर

सीतापुर/लखनऊ: बीते 27 दिन से बगावत का झंडा उठाए घूम रहे शिवपाल यादव (SHIVPAL YADAV) ने ऐसा दांव चला है कि, समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव (AKHILESH YADAV) सेलेकर मुलायम सिंह तक हैरान और हलकान हो गए होंगे. दरअसल, अखिलेश यादव से तल्खी के बीच शिवपाल यादव (SHIVPAL YADAV) शुक्रवार की सुबह सीतापुर जेल में बंद सपा नेता मोहम्मद आजम खान से मिलने जा पहुंचे. करीब एक घंटे 20 मिनट की मुलाकात के बाद जेल से निकले शिवपाल यादव ने अखिलेश यादव के साथ पहली बार सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव पर भी हमला बोला है।

‘नेताजी’ पीएम से कहते तो…

मीडिया से मुखातिब होते हुए शिवपाल यादव (SHIVPAL YADAV) ने कहा कि, ‘नेताजी (मुलायम सिंह)  और अखिलेश यादव (AKHILESH YADAV) चाहते तो आजम खान जेल से बाहर होते. नेताजी ने कुछ नहीं किया, लोकसभा में भी मामला नहीं डठाया. वह चाहते तो उनकी अगुवाई में धरना कर सकते थे. यह बात तो पूरा देश जानता है कि नेताजी (मुलायम सिंह यादव) का प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बहुत सम्मान करते हैं. अगर आजम खान की जेल से रिहाई के लिए नेताजी की अगुवाई में समाजवादी पार्टी के नेता धरने पर भी बैठ जाते तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तो नेताजी की बात को जरूर सुनते. समाजवादी पार्टी के लोगों को यह बात रखनी चाहिए थी. उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी के संस्थापक सदस्य और वरिष्ठ नेता होने के बावजूद भी आजम खां की मदद नहीं हो पा रही. उन पर छोटे और झूठे मुकदमे लगाए गए. अब सिर्फ एक मुकदमा बचा है. छह महीने पहले बहस भी हो चुकी है, लेकिन समाजवादी पार्टी की तरफ से मदद नहीं हो पा रही है. हम तो आजम भाई के साथ हैं और वह हमारे साथ हैं।

सीएम योगी से आजम भाई के मुद्दे पर भेंट करेंगे

शिवपाल यादव ने इस मामले को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भेंट करने की बात कही है.

BJP में जाएंगे या अपना दल बनाएंगे?

BJP में जाने या फिर नया मोर्चा बनाने के सवाल पर शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि ऐसा तो कोई सवाल नहीं है. उन्होंने कहा कि पहले उन्हें जेल से बाहर आने दो. उचित समय आएगा तो आपको सब पता लग जाएगा. उन्होंने कहा कि आप सबको ज्यादा जल्दी है. इसके साथ ही अखिलेश यादव पर सवाल करने पर भी उन्होंने यही कहा कि सपा को संघर्ष करना चाहिए थी. आंदोलन, संघर्ष ही सपा की पहचान भी थी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *