BJP ने शिवप्रताप शुक्ल को दी नई जिम्मेदारी, क्या नाराज ब्राह्मणों को साधने की कोशिश?

अपना लखनऊ होमपेज स्लाइडर

गोरखपुर: विकास यादव प्रकरण के बाद  उत्तर प्रदेश में ब्राह्मण विरोधी बयानबाजी और विपक्ष के आरोपों के बीच बीजेपी ने उत्तर प्रदेश के ब्राह्मण चेहरे और कद्दावर नेता शिवप्रताप शुक्ल को नई जिम्मेदारी दी है. शिवप्रताप शुक्ल को बीजेपी आलाकमान ने राज्यसभा में पार्टी के मुख्य सचेतक चीफ व्हिप की कमान सौंपी है.

क्या रहेगी जिम्मेदारी ?

शिवप्रताप शुक्ल के कंधों पर उच्च सदन में पार्टी के लिए व्हिप करने की जिम्मेदारी उनके कंधों पर रहेगी. शुक्ला को पार्टी में नई जिम्मेदारी मिलने से उनके समर्थकों में खुशी की लहर है. दरअसल, शिवप्रताप शुक्ल बीजेपी के जाने-माने चेहरे हैं राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ में भी उनकी गहरी पकड़ रही है.

कैसा रहा सियासी सफर

शिव प्रताप शुक्ल के सियासी सफर की शुरुआत 1970 में हुई थी. सबसे पहले वो अखिल भारतीय विधार्थी परिषद से जुड़े थे. 1981 में पहली बार भाजयुमो के क्षेत्रीय मंत्री बने. इमरजेंसी में वो 19 महीने जेल में भी रहे. 2012 में बीजेपी के प्रदेश उपाध्यक्ष बने. 1989 में कांग्रेस के सुनील शास्त्री को हराकर पहली बार विधायक बने फिर तो 1989, 1991, 1993 और 1996 में गोरखपुर से लगातार विधायक चुने गए. तीन बार कैबिनेट मंत्री बने. शुक्ल मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में वित्त राज्यमंत्री थे.

 

 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *