कोरोना खौफ के चलते अकेले निकाली पत्नी की अंतिम यात्रा

अपना बुलंदशहर लाइफस्टाइल/हेल्थ होमपेज स्लाइडर

आगरा : देश में कोरोना ने अपने पैर ऐसे पसारे हैं कि लोगों के अंदर डर बैठ गया है और वो किसी भी तरह का रिस्क लेने के लिए तैयार नहीं हैं. देश में 21 दिन का लॉकडाउन है और लोगों को अपने घरों से निकने की बिल्कुल भी अनुमित नहीं दी गई है. ऐसे में अगर किसी की मृत्यु हो जाए तो इंसानियत के नाते आस-पड़ोस के लोग शोक प्रकट करने अंतिम यात्रा में शामिल होने के लिए जरूर जाते हैं. पर उत्तर प्रदेश के एक व्यक्ति ने मिसाल कायम की है, जिसने अपनी पत्नी की अंतिम यात्रा में आए लोगों को हाथ जोड़कर वापस अपने घर जाने के लिए कह दिया.

लंबी बीमारी से हुआ निधन

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, यह मामला आगरा के न्यू विजय कॉलोनी का है. यहां रहने वाले देवकी नंदन त्यागी की पत्नी का लंबी बीमारी के बाद बुधवार को निधन हो गया. परिवार में मातम पसरा हुआ था कि देवकी नंदन के घर के बाहर रिश्तेदारों और आस-पड़ोस के लोगों की भीड़ इकट्ठी हो गई. देवकी नंदन को जब पता चला कि लॉकडाउन के बावजूद लोग उनकी पत्नी की अंतिम यात्रा में शामिल होने के लिए घर के बाहर इकट्ठे हो गए हैं तो वो बाहर आ गए. उन्होंने लोगों को वापस जाने की नसीहत देत हुए लोगों से अपने-अपने घर लौट जाने की विन्नती की.

10 लोग हुए यात्रा में शामिल

देवकी की बात सुनकर लोग वहां से चले गए और उनके इस कदम की सराहना भी की. इसके बाद अंतिम यात्रा में कुल 10 लोग ही शामिल हुए. लॉकडाउन के कारण देवकी का बेटा अपनी मां को आखिरी बार देखने भी न आ सका, क्योंकि वह मर्चेंट नेवी में तैनात है.

 

 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *