कोरोना की टेंशन के बीच लखनऊ से आई राहत भरी खबर

अपना लखनऊ लाइफस्टाइल/हेल्थ होमपेज स्लाइडर

लखनऊ : कोरोना वायरस संक्रमण से जुड़ी एक अच्छी खबर लखनऊ से आ रही है. शहर में कोरोना के पहले मामले में कनाडा से आ से आई 35 साल की महिला डॉक्टर को केजीएमयू के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया था. मरीज के दो टेस्ट नकारात्मक आने के बाद उसे शनिवार को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई.

8 मार्च को भर्ती हुई थी महिला

केजीएमयू के कुलपति प्रोफेसर एमएल भट्ट ने कहा कि कोरोना को लेकर शहर के पहले मामले में महिला को 8 मार्च को भर्ती कराया गया था. महिला का पहला टेस्ट शुक्रवार रात और दूसरा शनिवार रात को कराया गया था. दोनों ही टेस्ट में कोविड-19 संक्रमण की पुष्टि नहीं होने के बाद उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी गई. उसे स्वस्थ घोषित करने और आम जीवन व्यतीत करने से पहले अगले 14 दिनों के लिए एकांतवास में रहने की सलाह दी गई है.

महिला जांच जारी रहेगी

कुलपति ने यह भी कहा कि कोविड-19 संक्रमण दुबारा न हो इसके लिए महिला के कोरोनो वायरस संक्रमण की जांच अगले कुछ दिनों तक जारी रहेंगे. उन्होंने कहा कि महिला का स्वस्थ होना विश्वविद्यालय के स्वास्थ्य कर्मचारियों के साथ-साथ शहर के लोगों के लिए भी एक बड़ी मनोबल बढ़ाने वाली खबर है. बता दें कि महिला 1 मार्च को अपने डॉक्टर पति और दो साल के बेटे के साथ गोमती नगर स्थित अपने माता-पिता के घर आई थी. महिला में सात मार्च को कोविड-19 के लक्षण दिखाई दिए थे, जिसके बाद उसे तुरंत किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी में भर्ती कराया गया. बाद में टेस्ट में वह कोरोना वायरस से संक्रमित पाई गई.

किसी रिश्तेदार में नहीं हुई पुष्टि

वहीं, महिला के पति, बच्चे और परिजनों के टेस्ट में कोविड-19 संक्रमण की पुष्टि नहीं हुई है. हालांकि, एक चचेरी बहन जिसके साथ वह संपर्क में आई, उसमें कोविड-19 संक्रमण की पुष्टि हुई. वर्तमान में केजीएमयू में उसका इलाज चल रहा है.

 

 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *