आंदोलनकारी किसानों का ऐलान, 26 जनवरी पर ऐसे निकालेंगे किसान परेड…

अपना लखनऊ बिना श्रेणी होमपेज स्लाइडर

दिल्ली: केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानूनों को रद्द कराने के लिए बीते 54 दिन से आंदोलन कर रहे किसानों ने ऐलान किया है कि, 26 जनवरी को किसान परेड़ निकाली जाएगी. किसान नेता शिव कुमार कक्का जी, योगेंद्र यादव समेत कई किसान नेताओं ने एकमत से यह कहा कि किसान परेड पूरी तरह से शांतिपूर्ण होगी और ये हमारा हक है. किसान नेताओं ने ये भी कहा कि,अगर सुप्रीम कोर्ट किसान परेड को रोकने के लिए कहती है तो भी किसान परेड निकाली जाएगी. 26 जनवरी को होने जा रही किसान परेड में लगभग डेढ़ लाख ट्रैक्टर शामिल होंगे और लगभग 3 लाख से ज्यादा लोग ।

50 किमी लंबी होगी किसान परेड

दरअसल, किसान पहले ही कह चुके थे कि, अगर उनकी मांगे नहीं मानी गईं तो वो भी 26 जनवरी को राजपथ पर होने वाली गणतंत्र दिवस की तरह किसान परेड निकालेंगे. संयुक्त किसान आंदोलन के नेता शिव कुमार कक्का ने कहा कि,  गणतंत्र दिवस समारोह मनाने का अधिकार इस देश के हर नागरिक को है. देश का जवान जब परेड में शामिल हो सकता है तो किसान को भी उतना ही अधिकार है. जवान भी किसान का ही बेटा है और किसान इस देश का अन्न दाता है. इसी वजह से हमने फैसला किया है कि हम लोग किसान परेड जरुर निकलेंगे, जो पूरी तरह से शांतिपूर्ण होगी. कोई भी किसी भी तरह के हथियार लेकर शामिल नहीं होगा. किसी तरह की कोई भी गलत नारेबाजी नहीं की जाएगी. ट्रैक्टर पर सिर्फ तिरंगा झंडा और किसान संगठन का झंडा लगाने की अनुमति रहेगी. किसी भी राजनीतिक दल का कोई झंडा नहीं लगेगा. उन्होंने कहा कि, ये परेड हम केवल रिंह रोड पर निकालेंगे ।

पुलिस ने रोक के लिए याचिका लगाई

दरअसल,  दिल्ली पुलिस ने किसानों की परेड रोकने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है. किसानों का कहना है कि, जिस तरह से सुप्रीम कोर्ट में किसान ट्रैक्टर परेड पर रोक लगाने के लिए याचिका लगाई है, उससे साफ है कि दिल्ली पुलिस अपने काम को करने में सक्षम नहीं है. अगर हमारी ट्रैक्टर परेड को रोकना है तो खुद क्यों नहीं रोकती या खुद क्यों नहीं हमें हटाती, सुप्रीम कोर्ट को बीच में लाकर अपना काम सर्वोच्च न्यायालय से क्यों करवाना चाहती है?

 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *