फिर से लॉकडाउन पर केंद्र की एडवाइजरी, नहीं मान रहे लोग तो…

अन्य जिले बिना श्रेणी मनोरंजन/वायरल होमपेज स्लाइडर

नई दिल्ली: कोरोना की तीसरी लहर की खबर के बीच देशभर से लापरवाही की जो तस्वीरें सामने आ रही है. उसने केंद्र सरकार की पेशानी पर परेशानी के बल डाल दिए है. लगातार नाराजगी जताने के बाद भी हिल स्टेशन, पर्यटन केंद्रों, मॉल, बाजार और दुकानों पर कोविड-19 के नियमों की जमकर धज्जियां उड़़ाई जा रही है. इस सबसे परेशान होकर द्रीय स्वास्थय मंत्रालय ने बुधवार को राज्यों और केंद्र सरकार को एडवाइजरी जारी की है ।

नहीं मान रहे लोग तो लगा दें लॉकडाइन
दरअसल, केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला की ओर से जारी की गई एडवाइजरी में कहा गया, “अगर किसी प्रतिष्ठान/परिसर/बाजार आदि में कोविड-19 के उचित व्यवहार के मानदंडों को बनाए नहीं रखा जाता है, तो ऐसी जगहों पर कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए लगाए गए प्रतिबंधों को फिर से लागू करने और कोविड-19 को फैलाने के लिए उत्तरदायी होंगे जिन पर संबंधित कानूनों के तहत कार्रवाई की जाएगी.”

केंद्र सरकार का कड़ा रूख
वहीं केंद्र सरकार ने कड़ा रूख अपनाते हुए कहा, ” कि, हमें खुद पर निगरानी करने की जरूरत है और इसमें जरा भी ढील की गुंजाइश नहीं है. ये सोचकर हम अपने व्यवहार में बदलाव नहीं ला सकते कि पॉजिटिविटी रेट गिर रहा है.” केंद्र ने राज्यों को यह भी कहा है कि कोविड उपयुक्त व्यवहार के पालन में किसी भी ढिलाई के लिए अधिकारियों को व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार बनाने के लिए भी कहा.केंद्र ने आगे कहा, “इस बात पर जोर दिया जाता रहा है कि कोविड की दूसरी लहर अभी खत्म नहीं हुई है. हमें यह याद रखना चाहिए कि जहां टीकाकरण की पहुंच काफी बढ़ रही है, वहां ढील की कोई गुंजाइश नहीं है और इसलिए कोविड उपयुक्त व्यवहार हमारी ‘दवाई भी और कड़ाई भी’ फिलॉसफी के अनुरूप जारी रहना चाहिए. परीक्षण को उसी जोश के साथ जारी रखने की जरूरत है, क्योंकि वायरस की जांच और मामलों की जल्द पहचान के मामले में पर्याप्त परीक्षण बेहद जरूरी है.”

पीएम ने जताई चिंता
गृह मंत्रालय की ये एडवाइजरी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पूर्वोत्तर राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बातचीत के एक दिन आई है. प्रधानमंत्री मोदी ने इस बैठक में लोकप्रिय स्थलों पर पर्यटकों की भीड़ के बारे में चिंता जताई थी. दरअसल, तमाम हिल स्टेशन, पर्यटक स्थलों से भारी भीड़ की तस्वीरें आ रही है जिसमें कोरोना के नियमों की धज्जियां खूब उड़ रही है ।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *