नहीं मिली आजम खान को राहत, अभी जेल में ही रहेगा आजम परिवार

अपना लखनऊ होमपेज स्लाइडर

रामपुर : सपा सांसद आजम खान और उनके बेटे अब्दुल्लाह  आजम को एक और बड़ा झटका लगा है. दो पैन कार्ड और दो पासपोर्ट के मामले में कोर्ट ने दोनों की जमानत याचिकाओं को खारिज कर दिया है. बता दें कि अब्दुल्लाह आजम के दो पैन कार्ड और दो पासपोर्ट के मामले में बुधवार को स्पेशल कोर्ट में सुनवाई हुई. जहां उन्हें कोर्ट से कोई राहत नहीं मिली. ये मामला बीजेपी नेता आकाश सक्सेना ने दर्ज कराया. हालांकि, यतीमखाना मामले में आजम खान को कोर्ट ने जमानत दे दी.

तीन मामलों में जमानत खारिज

बता दें कि बुधवार को  एडीजे 9 कोर्ट में में चार अलग-अलग मामलों में जमानत याचिका लगाई गई थी.  जिनमें से तीन मामलों में जमानत को खारिज कर दिया गया. इस संबध में आजम खान के वकील खलीलुल्लाह खान ने बताया कि पैन कार्ड और पासपोर्ट मामले में लगी जमानत याचिका खारिज हो गई है, जबकि यतीमखाना प्रकरण में आजम खान की जमानत मजूर हो गई है

बीजेपी नेता आकाश सक्सेना का आरोप

बीजेपी नेता आकाश सक्सेना का आजम परिवार पर आरोप है कि अब्दुल्लाह आजम के पास दो जन्म प्रमाण पत्र हैं. एक जन्म प्रमाण पत्र आजम खान और उनकी पत्नी तंजीन के शपथ पत्र के बाद 28 जून 2012 को नगर पालिका परिषद रामपुर द्वारा जारी किया गया है, जबकि दूसरा लखनऊ के क्वीन मैरी अस्पताल के जन्म प्रमाण पत्र के आधार पर 21 जनवरी 2015 को नगर निगम लखनऊ द्वारा जारी किया गया है. आजम के शपथ पत्र के बाद लखनऊ से बना जन्म प्रमाण पत्र जारी किया गया, जो की डुप्लीकेट है. बीजेपी नेता का ये भी आरोप है कि अब्दुल्ला का पासपोर्ट रामपुर से बने जन्म प्रमाण पत्र के आधार पर बना, जिससे उन्हों कई विदेश यात्राएं की. जबकि लखनऊ से बने जन्म प्रमाण पत्र के आधार पर जौहर यूनिवर्सिटी की तमाम मान्यताएं व फायदे उठाए गए. ये सब सोची-समझी साजिश के तहत हुआ.

 

 

 

 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *