इलाहाबाद हाईकोर्ट का DGP Mukul Goyal को बड़ा आदेश! कल तक प्रयागराज न छोड़ने को कहा

अपना लखनऊ होमपेज स्लाइडर

प्रयागराज. वाहर नवोदय विद्यालय मैनपुरी की छात्रा के फंदे से लटक कर जान देने के मामले में इलाहाबाद हाई कोर्ट ने प्रदेश के पुलिस प्रमुख (डीजीपी) मुकुल गोयल की सफाई को अंसतुष्टिजनक माना है. कोर्ट ने डीजीपी को पुलिस अधीक्षक के खिलाफ कार्रवाई करने का निर्देश दिया है. हाई कोर्ट डीजीपी से कड़े लहजे में कहा कि पुलिस अधीक्षक को हटाया जाए या जबरन सेवानिवृत्त किया जाए. कोर्ट ने छात्रा की फांसी के बाद पंचनामे की वीडियो रिकार्डिंग भी देखी और पुलिस के रवैये पर कड़ी नाराजगी जताई.

कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश एमएन भंडारी तथा न्यायमूर्ति एके ओझा की खंडपीठ ने बुधवार को इस प्रकरण में दायर जनहित याचिका की सुनवाई करते हुए कहा कि पुलिस अधीक्षक हटाए जाएं अथवा उन्हें जबरन सेवानिवृत्ति दी जाए. खंडपीठ ने पंचनामे की वीडियो रिकार्डिंग देखी. पुलिस के रवैये पर कड़ी नाराजगी जाहिर की और कहा कि डीजीपी पूरी तैयारी के साथ गुरुवार को कोर्ट में मौजूद रहें.

क्या है मामला ?
दरअसल, मैनपुरी में साल 2019 में एक छात्रा का शव लटका मिला था. लेकिन FIR जुलाई 2021 में दर्ज की गई. इसी मामले पर हाईकोर्ट ने डीजीपी को तलब किया था. इस मामले में कोर्ट ने पूछा कि, अपराधियों पर क्या कार्रवाई हुई, दोषियों पर क्या एक्शन लिया गया. इसस पर डीजीपी महोदय ने जो उत्तर कोर्ट को दिया उससे कोर्ट संतुष्ट नहीं दिखा. कोर्ट ने डीजीपी से कहा कि, कल पूरी तैयारी से आइये, पूरे कागज पढ़कर आईये.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *